Khandar Fort Information And History In Hindi

Khandar Fort Information And History In Hindi 

नमस्कार दोस्तों आपका हमारे वेबसाइट पर स्वागत है।आज हम आपको tourist के बारे बताने वाले हैं।दोस्तो आज हम राकस्थान के सवाई माधोपुर के खंडार की बात करने जा रहे हैं। तो आइए दोस्तों आ जाऊं राजस्थान के सवाई माधोपुर के खंडार तहसील के बारे में बात करते थे और उनके बारे में जानकारी प्राप्त करते है।


Khandar Fort:- पहले के समय मे किला भारत के राजा और शासकों के लिए बहुत महत्व का स्थान रहा है। खंडार किले को फ़तह करना हर बादशाह के लिए एक बहुत ही चुनौतीपूर्ण कार्य रहा है। और वे हमेशा अजय किले पर कब्जा करने की कल्पना करते रहे हैं।यह किला राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले में रणथंभोर राष्ट्रिय उद्यान और राज टाइगर रिजर्व की सीमा पर स्थित है।सवाई माधोपुर की खंडार तहसील में खंडार किला सवाई माधोपुर के दर्शनीय स्थलों में से ऎक है।यह किला राजस्थान के सबसे प्राचीन किलो में से एक है। यह राजस्थान के  खंदर तहसील में होने के कारण  खंदर किले के नाम से जाना जाता है।

यह किला राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले में रणथंबोर राष्ट्रीय उद्यान और टाइगर रिजर्व की सीमा पर स्थित है। किले का निर्माण रणनीतिक रूप से पहाड़ी क्षेत्र में किया गया जिससे हमलावरों पर सत्ता हासिल करने में मदद मिले।यह किला किसने बनवाया यह किसी को नहीं पता क्योंकि इस पर कई राजवंशों के राज करने के प्रमाण मिलते हैं।खड़ी पहाड़ी पर स्थित इस किले के प्रवेश द्वार पर 3 बड़े दरवाजे ।हैं एक निश्चित स्थान पर स्थित होने के कारण किले पर किसी भी हमलावर सेना द्वारा आसानी से विजय प्राप्त नहीं की जा सकती थी। किले के शासक राजाओं में से एक को उनके द्वारा लड़ी गई हर लड़ाई जीतने के लिए जाना जाता था।


Khandar Fort History(खंडार किले का इतिहास)

खंडार किले पहले राजवंश के समय कंडर किले को फतह करना हर बादशाह के लिए एक बहुत ही चुनौतीपूर्ण कार्य रहा है। और वह हमेशा अजय किले पर कब्जा करने की कल्पना करते रहे हैं। और यह किले का निर्माण रणनीतिक रूप से पहाड़ी क्षेत्र में किया गया है जिसे हमलावरों पर सत्ता हासिल करने में मदद मिल सकती थी।खंडहर किला मुगलों और फिर राजपूतों के नियंत्रण में आने से पहले सिसोदिया वंश का था। मेवाड़ के शासकों की ताकत और लोगों की ताकत के भीतर थी। मजबूत किला भी उतना ही मजबूत और बहादुर था जितना कि विदेशी आक्रमणकारियों के लगातार हमलों के बाद भी अपने साम्राज्य को बनाए रखने वाले लोग यह रणथंबोर की सुरक्षा चौकी के रूप में कार्य करता था। और खंडार किले में प्रसिद्ध मंदिर स्थित है जो आज तक वहां बने हुए हैं।

खंडार किले के शासक राजाओं में से एक को उनके द्वारा लड़ी गई हर लड़ाई जीतने के लिए जाना जाता था। इस किले पर शासन करने वाले राजवंशों में से एक मेवाड़ का सिसोदिया वंश था। बाद में उन्हें मुगलों ने उखाड़ फेंका जिन्होंने उन्हें हराकर किले पर कब्जा कर लिया।

इस किले के निर्माण को लेकर स्पष्ट रूप से कुछ नहीं कहा जा सकता लेकिन इतना तय है कि 12 वीं शताब्दी में यह किला अपनी उन्नति के चरम पर था।खंडहर किले पर कई राज्यों ने निवास किया जिनमें सबसे प्रमुख रहे सवाई माधव सिंह । इस किला कभि भि किसी हमले के कारण पराजित नहीं हुआ। कहा जाता है कि इस किले में निवास करने वाला राजा अजेय हो जाता था। क्योंकि यह किला चंबल और बनास नदियों के किनारे बना है। इसलिए शत्रु का इस पर पूरी तरह तैयारी से हमला कर पाना संभव नहीं था। इस किले पर कुछ समय मुगलों और बढगुर्जरों का अधिपति रहा। खिलजी हार कर चला गया सबसे लंबे समय तक मेवाड़ के सिसोदिया राजपूत वंश का आधिपत्य रहा।


खंडार किले के आस-पास और अंदर देखने वाले स्थल(Places to visit in and around Khandar Fort)

खंडार किले के अंदर 7 मंदिर है। जिनमे हनुमान मंदिर, चतुर्भुजा मंदिर, रानी मंदिर, गोविंद देव जी मंदिर, जगतपाल जी मंदि,र जयंती माता मंदिर इसके अतिरिक्त परिसर के अंदर कई जल निकाय है और 7 तालाब शामिल है।खंडहर किले के अंदर जैन मंदिर साहित्य सात मंदिर है। जिनमें जैन गुरुओं की चट्टानों को काटकर बनाई गई मूर्तियां है। किले में सात छोटे तालाबों के साथ रामाकुंडा और लक्ष्मण मुंडा नामक दो विशाल पानी के टैंक है।

खंडार किला खुलने और बंद होने का समय

खंडार किला पुरे सप्ताह मे सुबह 9 बझे खुलता है और शाम को 5 बझे बंद हो जाता है। और इसमे जाने के लिये कोइ प्रवेश शुल्क नहि है।

दोस्तो अगर आप भि इस किले कि यात्रा करना चाहते है तो इसके लिये यात्रा करने का सबसे अच्छा समय अक्टुम्बर से मार्च के दौरान है क्योकि इस समय मे धुप कम होति है। इसलिये आप इस समये यात्रा कर सकते है और यात्रा का आनंद उठा सकते है।

दोस्तो आज हमने बताया कि खंडार किला कहा है। और उनसे जुडि हर माहिति को आपको साझा करने कि कोशिश कि है। यदि आपको इस पोस्ट मे कमि दिखति है तो आप हमे कोमेन्ट करके बता सकते हो।

अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे ,,,''धन्यवाद'' 

Comments